गुरुवार, 20 अक्तूबर 2011

मेरे  सारे ब्लोगर्स साथियों को दीवाली की बहुत शुभकामनायें 
कुछ दिनों  के  लिए बाहर जा रही हूँ वापस आ कर आप सबसे फिर मुखातिब हूँगी \
प्रणाम     

झीलों का शहर 
भोपाल 





भारत देश के दिल में स्थित मध्य प्रदेश की राजधानी है झीलों का खूबसूरत शहर भोपाल /चारों और पहाड़ियों से घिरा हुआ,छोटी छोटी झीलों और हरियाली के कारण बारिश के दिनों में एक हिल स्टेशन की तरह प्रतीत होता है ./ बादल पहाड़ियों पर झूकने लगते है ,धरती अम्बर मिलने लगते हैं
/हर तरफ कुहरा सा  छा जाता  है /मौसम सुहाना हो जाता है /बड़ी और छोटी झीलों में बूंदें पड़ने लगती हैं /भीगे मौसम में नोका विहार का मजा दुगुना हो जाता है /रात में बड़ी झील में जहाज  में लोगों का हूजूम उमड़ पड़ता है /





जिसमें खाने के लिए वातानुकूलित रेस्टोरेंट तथा डेक पर स्नेक्स सेण्टर है जिससे लोग झील की सैर करते हुए खाने पीने का मजा लें सकें /साथ ही डेक पर आर्केस्ट्रा भी है जिसकी मधुर सुर लहरियों से चांदनी रात में नोका विहार का मजा दुगुना हो जाता है / बड़ी झील में श्याम को स्पीड बोट ,पेडल 



बोट ,वाटर स्कूटर और भी कई तरह के वाटर स्पोर्ट्स का मजा ले सकते हैं /झील के किनारे किनारे बहुत सुंदर सड़क बनाई गई है /जिसे भोपाल की मरीन drive कहते हैं /रात में जब उसकी lights झील पर पड़ती है तो ऐसा लगता है जैसे सेकड़ों दीप झिलमिला रहे हों /और उस समय ऐसा लगता है जैसे आप पेरिस की शाम और रंगीनियों  को देख रहे हों /





भोपाल के आस-पास काफी ऐतहासिक जगहे हैं /जहाँ आप जाकर पूरा दिन बिता सकते हैं /

साँची स्तूप 

    
 राजा अशोका ने (273-236 B.C.) में ये  स्तुपस  बुद्ध भगवान् के सम्मान में बनाया था /ये भोपाल से ३५-४० किलोमीटर की दूरी पर स्थित है /


भोजपुर 

Bhojpur

राजा भोज ने यहाँ पर लगभग ९०० वर्ष पूर्व शिवजी का मंदिर बनवाया था /जिसकी बड़ी मान्यता है /ये भी भोपाल से २८ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है / पिकनिक मनाने के लिए यह स्थान बहुत लोकप्रिय हैं /


बिड़ला मंदिर

Photo Here

ये भी बहुत पुराना पहाड़ी पर स्थित लक्ष्मी नारायणजी  का मंदिर है /जहाँ से पूरा भोपाल की खूबसूरती देख सकते हैं /

वन विहार 




झील के किनारे वन विहार स्थित है जिसमे कई तरह के जानवर खुले में जंगल की तरह रहते हैं /वहां सफेद शेर भी है /

भीम वाटिका 

Photo Here

भोपाल से ४० किलोमीटर दूर स्थित भीम वाटिका में १२०००.साल प्राचीन गुफायें हैं जिसमे कुछ पुरानी चित्रकारी की हुई हैं /जो काफी साल पुरानी है /ये मान्यता है की वनवास के दौरान पांडव यहाँ आकर रहे थे /यह यूनेस्को द्वारा संरक्षित स्थल है / 

ताजुल मस्जिद 

 


भोपाल की बेगम सुल्तान शाजहाँ ने लगभग १४० वर्ष पूर्व बनवाया था /इसे मस्जिदों का ताज भी कहा जाता है /


मानव संग्रहालय 


 
मानव संग्रहालय में भारत देश के सारे प्रदेशों के ग्रामीण परिवेश और रहन सहन की झलक दिखलाने के लिए अलग अलग तरह के कच्चे मकान बनाये गए हैं / और उसके बारे में पूरी जानकारी दी गई है /


इसके अलावा बहुत सुदर बगीचे ,बांध और बहुत अच्छी जगह हैं घूमने के लिए /बहुत अच्छा शहर है भोपाल जहाँ हर त्यौहार बहुत धूमधाम और उत्साह से मनाया जाता है /      
सड़क ,रेल,एवं वायु मार्ग  से भोपाल भारत के चारों महानगरों से जुड़ा हुआ है /
इस खूबसूरत शहर भोपाल की यात्रा मनमोहक यादगार के रूप में हमेशा 
आपके  दिल में बसी रहेगी / 
जरुर यात्रा कीजिये भोपाल की /





21 टिप्‍पणियां:

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

घूम आओ तब तक हम दीवाली मनाते है।
भोपाल अभी तो आपने दिखा दिया है कभी खुद भी जाकर देखेंगे।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सुन्दर चित्रों के साथ भोपाल कि अच्छी जानकारी मिली ...

शुभकामनायें

Bhushan ने कहा…

भोपाल की दर्शनीय जगहें दिखाने के लिए आभार. अवसर मिला तो घूमने अवश्य जाएँगे.

Navin C. Chaturvedi ने कहा…

आपको भी दिवाली की शुभकामनाएं
झीलों के शहर भोपाल की सैर कराने के लिए आभार

रविकर ने कहा…

खूबसूरत प्रस्तुति |

त्योहारों की नई श्रृंखला |
मस्ती हो खुब दीप जलें |
धनतेरस-आरोग्य- द्वितीया
दीप जलाने चले चलें ||

बहुत बहुत बधाई ||

Anita ने कहा…

कभी मौका मिला तो अवश्य भोपाल देखेंगे...शुभ यात्रा !

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत वाह!

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत अच्‍छे चित्र .. अच्‍छी जानकारी !!

Babli ने कहा…

ख़ूबसूरत चित्रों के साथ शानदार प्रस्तुती!
आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

NEELKAMAL VAISHNAW ने कहा…

आपको धनतेरस और दीपावली की हार्दिक दिल से शुभकामनाएं
MADHUR VAANI
MITRA-MADHUR
BINDAAS_BAATEN

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

झीलों के शहर भोपाल की सैर कराने के लिए आभार....!!

ZEAL ने कहा…

Beautiful and colourful post. Happy Diwali.

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

दिवाली की शुभकामनाएं...

ZEAL ने कहा…

Great pics. Worth visiting .

मदन शर्मा ने कहा…

भोपाल शहर का घर बैठे इतने सुन्दर चित्रों द्वारा दर्शन करवाने के लिए आपका
आपका बहुत आभार!!!
मेरी तरफ से आपको दीपावली तथा भैयादूज पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ!!

daanish ने कहा…

भोपाल की सैर करवाने के लिए
बहुत बहुत धन्यवाद ... !

अनुपमा त्रिपाठी... ने कहा…

Bahut khoobsoorat jankari Bhopal ki ....

prerna argal ने कहा…

मुझे ये बताते हुए बड़ी ख़ुशी हो रही है , की आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (१६)के मंच पर प्रस्तुत की गई है /आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें यही कामना है /आपका
ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर स्वागत है /आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए / जरुर पधारें /

अशोक कुमार शुक्ला ने कहा…

आदरणीय महोदय
अमृता जी का हौजखास के घर को सांस्कृतिक विरासत के रूप में संरक्षित करने हेतु अनेक लोगों ने महामहिम से अपनी गुजारिश की है । आपके सहयोग से इस मुहिम को और अधिक बल मिल सकता है । अधिक से अधिक पाठको तक पहुँचने के उद्देश्य से मेरे द्वारा कोलाहल से दूर पर भी इसके संदर्भ में मुहिम चलायी जा रही है जिसका लिंक इस प्रकार है।
कृपया आप भी इसे अवश्य देखकर अपने बहुमूल्य सुझाव अवश्य दें!!!!

Maheshwari kaneri ने कहा…

सुन्दर चित्रों के साथ भोपाल कि अच्छी जानकारी मिली ...

kase kahun?by kavita verma ने कहा…

sundar sair...dhanyavad.