शनिवार, 7 मई 2011


आज मदर्स डे पर मैं एक महान ,गरिमामय माँ  मदर टेरेसा को अपनी स्वरचित कविता के द्वारा श्रद्धांजलि  अर्पित कर रही हूँ 

     
ममतामयी माँ मदर टेरेसा 
ममतामयी,गरिमामयी  माँ का रूप थीं वो
सफेद साड़ी मैं लिपटी उजली सुबह -२ की धूप थीं वों 
स्नेहिल मुस्कान मुख पर लिए शांति की दूत थीं वो 
सर्वत्र प्यार का प्रसार करने वाली भगवान् की मूरत थीं वो 
निसहाय इंसानों, अनाथ बच्चों  की आश्रयदाता थीं वो 
किसी सत्ता,ऊँचे पदों, और लालच की ना मोहताज थीं वो 
इस दुनिया में इंसानियत की मिसाल थीं वो 
सही मायने में एक महान इंसान थीं वो 
हमारे धन्य-भाग्य  की भारत में बस गईं थीं वो 
भारत में रहने वाली अनमोल "भारत -रत्न" थीं वो 
भारत की ही नहीं सारी दुनिया की मदर थीं वो 
धरती माँ के समान सहनशील माँ मदर टेरेसा थीं वो 
ऐसी माँ को शत-शत नमन करती हूँ मैं 
उनकी महान आत्मा के लिए हर पल दुआ करती हूँ मैं

HAPPY MOTHER'S DAY

19 टिप्‍पणियां:

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

मदर्स डे पर मदर टेरेसा को बहुत अच्छी श्रद्धांजली दी आपने.

Happy Mothers day!!! आपको भी.

सादर

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

हृदयस्पर्शी पंक्तियाँ...मदर टेरेसा को नमन

ZEAL ने कहा…

रती माँ के समान सहनशील माँ मदर टेरेसा थीं वो
ऐसी माँ को शत-शत नमन करती हूँ मैं
उनकी महान आत्मा के लिए हर पल दुआ करती हूँ मैं....

Awesome !

Beautiful creation Prerna ji .

.

anupama's sukrity ! ने कहा…

धरती माँ के समान सहनशील माँ मदर टेरेसा थीं वो
ऐसी माँ को शत-शत नमन करती हूँ मैं
उनकी महान आत्मा के लिए हर पल दुआ करती हूँ

मेरा भी नमन ...
बहुत सुंदर भाव से लिखी -सुंदर कविता .
HAPPY MOTHERS'DAY .

mahendra srivastava ने कहा…

बहुत ही बढिया। मुनव्वर राना की दो लाइनें

मां मेरे गुनाहों को कुछ इस तरह से धो देती है,
जब वो बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है।।

ashutosh ने कहा…

mothers day per apni maa ko to sabhi wish karte hain per b'ful lines on mother.

सतीश सक्सेना ने कहा…

मदर टेरेसा ममता की प्रतिमूर्ति थी ....शुभकामनायें आपको !

girish pankaj ने कहा…

माँ पर सुन्दर विचार...आपका ब्लॉग देखा. आपकी सार्थक कोशिश रंग लाकर रहेगी. शुभकामनाएँ

रश्मि प्रभा... ने कहा…

bahut hi prabhawshali rachna

ghazalganga ने कहा…

मदर्स डे पर काफी सुंदर शब्दों के साथ मदर टेरेसा को श्रद्धांजलि दी आपने. बधाई! पीढ़ी अंतराल पर भी आपने अच्छा लिखा है. अभी सरसरी तौर पर ही देखा है. यह मेरा भी पसंदीदा टोपिक रहा है. मेरी एक नज़्म है 'पुरानी पीढ़ियों से....' अभी इसके और भी आयाम हैं, इसपर बाद में टिपण्णी करूंगा.

--देवेंद्र गौतम

संजय भास्कर ने कहा…

मदर्स डे पर काफी सुंदर शब्दों के साथ मदर टेरेसा को श्रद्धांजलि दी आपने.

संजय भास्कर ने कहा…

मातृ दिवस की शुभकामनायें

shikha varshney ने कहा…

मात्र दिवस पर पूरे विश्व की ममता मयी माँ को नमन.
खूबसूरत पंक्तियाँ लिखीं हैं आपने.

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छा आलेख।

artijha ने कहा…

waah prerna ji aapne to kamaal ka likha hai..maa ko aesi parshansha bahut achhi lagi...bahut sundar likhti hai aap or wo bhi bahut prenadai tarike se...badhai...humare blog pe aane ke lie sukriya...

कविता रावत ने कहा…

बहुत बढिया हृदयस्पर्शी आलेख..
मदर टेरेसा को नमन!
आपको शुभकामनायें !

Sunil Kumar ने कहा…

ham to bhai yahi kahenge man tujhe salam........

Rakesh Kumar ने कहा…

मदर टेरेसा को शत शत नमन और हार्दिक श्रद्धांजलि.
आपकी सुन्दर प्रस्तुति को नमन.
मेरे ब्लॉग पर आईयेगा ,आपका हार्दिक स्वागत है.

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

मां के लिये बेहतरीन रचना